60 साल के बुजुर्ग पर तीसरे फ्लोर से गिरा 90 किलो का शख्स, बुजुर्ग की मौत

60 साल के बुजुर्ग पर तीसरे फ्लोर से गिरा 90 किलो का शख्स, बुजुर्ग की मौत


ललिता कॉलोनी में 60 साल के एक बुजुर्ग घर के बाहर रिक्शे पर सो रहे थे। अचानक उन पर 90 किग्रा. का एक भारी-भरकम शख्स तीसरे फ्लोर से गिर गया। टेरेस से गिरनेवाले शख्स को मामूली चोट आई, लेकिन बुजुर्ग की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। रविंदर ने बताया कि वह फोन पर बात कर रहा था जब उसका संतुलन बिगड़ गया।


हाइलाइट्स

  • तीसरे फ्लोर की टेरिस से गिरनेवाले रविंदर को मामूली चोट आई है, कुछ खरोंच और एक फ्रैक्चर हुआ
  • 60 साल के बुजुर्ग पर गिरने के कारण रविंदर की जान बची, बुजुर्ग की आंतरिक चोटों के कारण मौत
  • नॉर्थ दिल्ली की डीसीपी नूपुर प्रसाद ने कहा कि सीआरपीसी के सेक्शन 174 के तहत केस दर्ज किया गया
सोमरीत भट्टाचार्य, नई दिल्ली 
दिल्ली के ललिता कॉलोनी में अजीब हादसा हुआ इसमें तीसरी मंजिल से गिरनेवाले शख्स की जान बच गई और 60 साल के बुजुर्ग की मौत हो गई। 60 साल के मदनलाल अपने घर के बाहर रिक्शा पर सोए थे जब 90 किग्रा का रविंदर तीसरी मंजिल से उन पर फिसलकर गिर गया। मदनलाल के ऊपर गिरने के कारण रविंदर की तो जान बच गई, लेकिन मदनलाल की मौत हो गई। तीसरी मंजिल से गिरने के बाद भी रविंदर को कोई बड़ी चोट नहीं आई और छोटे से फ्रैक्चर और कुछ खरोंच भर ही आई।
फोन पर बात करते हुए गिरा रविंदर
पुलिस को घटना के बारे में बताते हुए रविंदर ने कहा, ‘वह अपनी टेरिस की रेलिंग पर बैठा फोन पर बात कर रहा था, जब अचानक उसका संतुलन बिगड़ गया। इसके बाद वह सीधे रिक्शे पर सोए मदनलाल पर गिर गया।’ मदनलाल की ऑटोप्सी रिपोर्ट के अनुसार उसकी पसलियों में चोट आई और कुछ आंतरिक चोट के कारण उसकी मौत हुई है।
रिक्शे पर सो रहे थे मदनलाल, पड़ोसियों ने बताई कहानी 
इस हादसे से कुछ देर पहले ही मदनलाल अपनी पोती के साथ घर से बाहर घूमने के लिए निकले थे। कुछ देर तक खेलने के बाद पोती 10.30 बजे रात के करीब सोने के लिए चली गई। मदनलाल भी गर्मी के कारण अपने रिक्शे पर ही सोने के लिए चले गए। कुछ देर बाद ही लोगों ने उनकी पड़ोसी निखत को जोर-जोर से चिल्लाते सुना। निखत कहती हैं, ‘इतनी तेज आवाज सुनकर मुझे लगा कि शायद दीवार का कोई हिस्सा टूटकर उन पर गिर गया हो। मैंने उस शख्स को देखा वह बाबा (मदनलाल) के ऊपर गिरा था। पहली नजर में उसे देखकर मुझे ऐसा लगा कि वह बहुत नशे में है। वह किसी तरह से उठ खड़ा हुआ और उसने बाबा को भी उठाया।’
पुलिस ने दर्ज किया मामला
स्थानीय लोगों ने तुरंत मदननाल और रविंदर दोनों को अस्पताल पहुंचाया। थोड़ी देर में मदनलाल को डॉक्टरों ने राम मनोहर लोहिया अस्पताल ले जाने के लिए कहा। हालांकि, परिवार मदनलाल को रोहतक के एक अस्पताल में लेकर गया, जहां उनकी मौत हो गई। पड़ोसियों ने बताया कि रविंदर एक हौजिरी फैक्ट्री में नौकरी करता है और कुछ महीने पहले ही यहां शिफ्ट हुआ। लाल अपने बेटे के साथ ही छोटा-मोटा कारोबार करते थे और 10 साल पहले दिल्ली शिफ्ट हुए थे। नॉर्थ दिल्ली की डीसीपी नूपुर प्रसाद ने कहा कि सीआरपीसी के सेक्शन 174 के तहत केस दर्ज किया गया है और शुरुआती जांच की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shop By Department